दिन जल्दी-जल्दी ढलता है!

 हो जाए न पथ में रात कहीं,
मंजिल भी तो है दूर नहीं--
यह सोच थका दिन का पंथी भी जल्दी-जल्दी चलता है!
दिन जल्दी-जल्दी ढलता है!

बच्चे प्रत्याशा में होंगे,
नीड़ों से झाँक रहे होंगे--
यह ध्यान परों में चिड़ियों के भरता कितनी चंचलता है!
दिन जल्दी-जल्दी ढलता है!

मुझसे मिलने को कौन विकल?
मैं होऊँ किसके हित चंचल?
यह प्रश्न शिथिल करता पद को, भरता उर में विह्वलता है!
दिन जल्दी-जल्दी ढलता है!


~हरिवंश राय श्रीवास्तव "बच्चन"~

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कविता के बहाने

जीवन की आपाधापी में

"उम्मीद"